Categories
Uncategorized

Every Bollywood Actor Tangled Up In The NCB Case

Sushant Singh Rajput’s death toll opened up a total new part of Bollywood to the world. Albeit numerous individuals thought about it considerably sooner than, it has now found the feature inside the media. 

On cross examination with Rhea Chakraborty, NCB found that Sushant was taking opiates and a few other distinctive A-rundown Bollywood entertainers are worried on this racket. Further, by Jaya Shah, Sushant’s previous administrator the information was affirmed. In any case, she has moreover been arrested significantly because of lacking arrangements inside the cross examination. 

As of late, Deepika Padukone and Sara Ali Khan have been brought by NCB concerning the opiates test. Deepika’s cross examination is going to happen tomorrow regardless, she may go on Saturday. She traveled to Mumbai on a constitution airplane from Goa at present subsequent to being brought by NCB. Padukone was in a film taking pictures there. 

Further, Sara Ali Khan has also been gathered by the NCB for cross examination on Saturday. She was seen on the Mumbai air terminal alongside her mother and her sibling. They have been on a family unit trip in Goa. Sara, notwithstanding Deepika, have been in Goa essentially sooner than they have been brought, sounds simply somewhat fishy to me, don’t you accept. 

Besides, Shraddha Kappor and Rakul Preet Singh have also been called by the NCB inside the opiates test examination. They will probably be grilled on Saturday. Starting at now, these are the names which have come up. I guess the accompanying title to return up may be of Ranveer Singh. We ought not affirming that yet anyway it’s a danger, given his closeness with Deepika. 

Starting at now, these are the 4 VIPs brought by the NCB, we’ll let if any additional names come up. 

Stay Tuned With Us! 

Source: thebuzzpaper.com

Categories
Uncategorized

The Importance of Keeping Good Files

The Importance of Keeping Good Files: As in everything that involves money, it’s important to keep good records of your medical expenses for several reasons.

Keeping track of deductibles, especially for a family, can be time consuming, but is a crucial task. Every policy has different deductibles for lab work, hospital emergency room visits, hospital stays, doctor visits and x-rays, and it is often difficult to track.

Keeping track of your out-of-pocket expenses becomes very important when it comes time to finish your taxes. It also comes in handy to understand what your expenses are for medical aid when choosing to vary companies or policies. A file folder that includes a copy of the policy, copies of your medical bills and copies of what your insurance company has paid on those bills is typically all you will need.

When a bill comes for a provider, you’ll usually receive a statement from your insurance company showing what portion of the bill they paid, and many times providers write off the remainder, if it is not a large sum.

If you visit several doctors, you’ll want to possess a file folder for each doctor or provider. Insurance companies do occasionally make mistakes, but they are usually on top of their game. Having a copy of the policy handy makes it easy to see deductible levels and whether a specific service is roofed or not.

It also is a ready resource for telephone numbers, website information and your contact at the insurance company.

Categories
Uncategorized

American Express Confirm Card

 By the way, another similarly convenient method of activating your Amex card is via your smartphone, which doesn’t require any paperwork and one can simply call and ask the Amex guys for confirmation. The official toll free number for the same is 1-800-362-6032. Just call on the toll free number, follow the lead of your guiding customer service operator, and enlighten him or her about the card that you want to confirm along with all the details. But just a tiny safety note, that a real customer service operator can never ask you any kind of sensitive information like your CVS number, etc. The operator will then verify your mentioned details in their database and post confirmation they will instantly activate the card.


About Gift cards



Even if you have an AmEx gift card and are eager to redeem it online registering it first on americanexpress com confirmcard is mandatory, as because every online store is part of the security system and crosschecks the billing addresses. Which is why it is impossible to use an unregistered card for online purchases. Even this card can be registered like the previous one by calling “1-877-297-4438”, a toll-free number. Similarly, provide all details and the security code, get it registered and use it anywhere on the web.


If you have just applied for your American Express credit card, it is going to take somewhere around 7-10 days in order for your card to arrive at home, which comes in a white envelop on which their official logo is printed. Post-arrival feel free to confirm your card with their official site americanexpress/confirmcard, or else it would not possible to swipe it.


Read all the terms and conditions before using your card, and for any further information, you could always go to AmEx’s official website. Always remember that without online confirmation it will be impossible for you to use the card either online or offline, as in case of the AmEx gift card. In case you face some glitches or hurdles you can always try again. The confirmation services at americanexperss.con/confirmcard  are available round the clock.


The perks of using american express/ confirm card are plenty. The benefit of using AmEx cards are available to the income groups with annual income as low as 6lakhs. The cards are valid for shopping, both online and offline, dinning and even travelling. The users get to avail discounts in lifestyle products, in movie ticket bookings, in concert tickets, in case of dinning out and in many many other areas. The users frequently get coupons and rewards as well other exciting deals such as cashback awards and other prizes. Being a globally established firm, the cards can be used world-wide. Amex even provides you with a wide array of cards to choose from–AmEx Platinum card, AmEx Platinum Travel Credit Card, AmEx Smart Earn Credit Card, and so on. The travel cards provide you with extra travel benefits such as better travel insurance. There are even Membership Reward cards which provide bonus membership rewards points on every transaction as well as on renewal, which can be redeemed for so many exciting stuffs. Their aim is give you extra benefits on every transaction every expense. AmEx will have you spoilt for choices. 

Categories
Uncategorized

American Express Confirm Card

Have an AmEx card but confused how to confirm it? Cease all your brainstorming and Googling right now for you have arrived at the right place. We got you covered! So just keep calm and follow us and we will have you confirming your American Express cards in no time.

American Express Confirm Card


For those of you who don’t have much of an idea, an AmEx or American Express card is one of the most popular credit cards in the world. To give you an idea let us get you down to the hard facts–over a billion AmericanEx Credit cards are in circulation all over the world, half a billion of which is in the United States, as at the end of 2018. Its popularity is owed to it its unparalleled services and facilities. It is also remarkable for its heritage and history, the thought child of a prestigious financial institution which came into being in the mid 19th century. AmericanExpress has three major categories of cards, namely, Credit, Charge and Partner. So basically, the cards that we use are Charge cards. It’s the one we use to make purchases which are paid for by America Express and the amount has to be repaid in full by the due date, usually on a monthly basis. Credit cards are similar to Charge cards except they have a particular spending limit that cannot be exceeded, also their balance does not have to be paid in full every month and can be carried forward along with some accumulated interest. AmEx tends to be a little restrictive regarding the number of cards a member can have, which isn’t really very limiting considering the maximum limit per member is four charge cards and four credit cards. AmEx is one of a kind in its decision to provide its clients with both charge as well credit cards.


So fasten your seat belts as we take you on a ride through the whole process of AmEx confirm card. First of all it is not a mammoth task, so relax and just follow our tutorial on America Express online application process. The idea is to simply confirm with the website americanexpress.com confirmcard that you have actually received the card. There are two ways of activating or confirming your card, online or via phone.

Confirmation via internet

Let’s begin by enlisting the prerequisite paraphernalia for getting this job done. One would require a laptop, smartphone, tablet or a PC, an internet connection, an email address, the credit card number (15 digits), the card security code (4 digit) and other basic personal details such as a home address and phone number.


A few requirements, however, must be fulfilled in order to be eligible for an American Express card, such as being a US resident, being 18years or above in age, a clean and high credit score clear of bankruptcy for at least the past 7 years, and finally, not having any financial law case filed against him or her. So gather all the necessary stuff and start by opening your browser on your smartphone or computer and type www.american express.com. Be sure to have a fast and secure internet connection; preferably a private network.


Upon opening the website (american express.com), click on the “American Express Confirm Card” button to go to the official site which is americanexpress.com/confirmcard. You will be asked to enter your card details on the first page in order to begin– the four digit Card ID and the card number comprising 15 digits. This stage is the easiest and you will not be asked to fill in any other extra details. Fill in all the requisite details in the sample American Express credit card picture and click on “Confirm”. Next you need to “Login” to or “Register” for your Amex account. If you are a newbie, click on “Register”, enter your email ID and a strong password, fill-in your personal details including your phone number and zip code, and mother’s maiden name. These details will be verified with the ones you had provided when you had first applied for the AmEx card. Once you are done click on “Finish” et voila you are now successfully registered on americanexpress.com. You can use the username and the password to access your account any time in the future. For veterans no need to register again, you can simply log in by entering your user ID followed by the password on the homepage of american express.com/confirmcard.


Confirmation via phone


By the way, another similarly convenient method of activating your Amex card is via your smartphone, which doesn’t require any paperwork and one can simply call and ask the Amex guys for confirmation. The official toll free number for the same is 1-800-362-6032. Just call on the toll free number, follow the lead of your guiding customer service operator, and enlighten him or her about the card that you want to confirm along with all the details. But just a tiny safety note, that a real customer service operator can never ask you any kind of sensitive information like your CVS number, etc. The operator will then verify your mentioned details in their database and post confirmation they will instantly activate the card.

About Gift cards

Even if you have an AmEx gift card and are eager to redeem it online registering it first on americanexpress com confirmcard is mandatory, as because every online store is part of the security system and crosschecks the billing addresses. Which is why it is impossible to use an unregistered card for online purchases. Even this card can be registered like the previous one by calling “1-877-297-4438”, a toll-free number. Similarly, provide all details and the security code, get it registered and use it anywhere on the web.


If you have just applied for your American Express credit card, it is going to take somewhere around 7-10 days in order for your card to arrive at home, which comes in a white envelop on which their official logo is printed. Post-arrival feel free to confirm your card with their official site americanexpress/confirmcard, or else it would not possible to swipe it.


Read all the terms and conditions before using your card, and for any further information, you could always go to AmEx’s official website. Always remember that without online confirmation it will be impossible for you to use the card either online or offline, as in case of the AmEx gift card. In case you face some glitches or hurdles you can always try again. The confirmation services at americanexperss.con/confirmcard  are available round the clock.


The perks of using american express/ confirm card are plenty. The benefit of using AmEx cards are available to the income groups with annual income as low as 6lakhs. The cards are valid for shopping, both online and offline, dinning and even travelling. The users get to avail discounts in lifestyle products, in movie ticket bookings, in concert tickets, in case of dinning out and in many many other areas. The users frequently get coupons and rewards as well other exciting deals such as cashback awards and other prizes. Being a globally established firm, the cards can be used world-wide. Amex even provides you with a wide array of cards to choose from–AmEx Platinum card, AmEx Platinum Travel Credit Card, AmEx Smart Earn Credit Card, and so on. The travel cards provide you with extra travel benefits such as better travel insurance. There are even Membership Reward cards which provide bonus membership rewards points on every transaction as well as on renewal, which can be redeemed for so many exciting stuffs. Their aim is give you extra benefits on every transaction every expense. AmEx will have you spoilt for choices. 

Categories
Uncategorized

संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख अंग कौन कौन से हैं।

1. साधारण सभा या महासभा

साधारण सभा संयुक्त राष्ट्र संघ की सबसे बड़ी संस्था है संयुक्त राष्ट्र संघ के सभी सदस्य इसके सदस्य हैं हर राष्ट्र को एक वोट देने का अधिकार है महासभा की बैठक में सदस्य राष्ट्रपाल प्रतिनिधि भेज सकते हैं किंतु उन सभी के वोट एक ही गिने जाते हैं साधारण सभा की बैठक साल में एक बार अवश्य होती है पर आवश्यकता पड़ने पर इसकी विशेष बैठक भी बुलाई जाती है इसकी बैठकों में महत्वपूर्ण विषयों पर दो तिहाई बहुमत तथा साधारण बातों पर साधारण बहुमत से निर्णय होता है इसका अपना अध्यक्ष होता है प्रत्येक अधिवेशन के लिए नए सभापति का चुनाव होता है।

2. सुरक्षा परिषद

इसके पांच स्थाई और 10 अस्थाई सदस्य होते हैं फ्रांस रूस ब्रिटेन संयुक्त राज्य अमेरिका तथा चीन इस परिषद के स्थाई सदस्य हैं
सुरक्षा परिषद संयुक्त राष्ट्र संघ की कार्यकारिणी है प्रत्येक सदस्य को 1 वोट देने का अधिकार है सदस्य है स्थाई सदस्यों को वीटो या विशेषाधिकार प्राप्त है इसका तात्पर्य यह है कि अगर पांच स्थाई सदस्यों में से कोई भी सदस्य प्रस्ताव का विरोध करें तो वह प्रस्ताव स्वीकृत नहीं होगा।

3. आर्थिक और सामाजिक परिषद

आर्थिक और सामाजिक परिषद का उद्देश्य संसार को अधिक समृद्ध शाली सुखी और न्याय परायण बनाना है इस परिषद में साधारण सभा द्वारा दो तिहाई बहुमत से चुने गए सदस्य होते हैं सदस्यों का चुनाव 3 वर्ष के लिए किया जाता है प्रत्येक वर्ष एक तिहाई सदस्य पद मुक्त हो जाते हैं उनकी जगह नए सदस्यों का चुनाव होता है यह परिषद अंतरराष्ट्रीय अर्थ समाज शिक्षा संस्कृति स्वास्थ्य पर विचार करती है।

4. संरक्षण परिषद

संरक्षण परिषद का मुख्य कार्य इन देशों की आर्थिक सामाजिक राजनीतिक और शैक्षणिक उन्नति करना है तथा उसे स्वशासन की शिक्षा देना है न्याय परिषद उन पर तंत्र उपनिवेश एवं प्रदेशों की देखभाल करती है जो संयुक्त राष्ट्र संघ के संरक्षण में है।

5. अंतरराष्ट्रीय न्यायालय 

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय संयुक्त राष्ट्र संघ का न्यायिक अंग है इसका मुख्यालय नीदरलैंड्स के एक शहर में है अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में 40 न्यायाधीश होते हैं इन न्यायाधीशों का चुनाव सुरक्षा परिषद और महासभा में होता है इसका कार्यकाल 9 वर्ष का होता है इसमें नियमों के तहत विवादों को सुलझाया जाता है।

5. सचिवालय

सचिवालय का सर्वोच्च पद पदाधिकारी महासचिव कहलाता है उसी के देखरेख में सचिवालय का कार्य होता है सचिवालय के कर्मचारियों की संख्या 8000 है सचिवालय अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में स्थित है संयुक्त राष्ट्र संघ के वर्तमान महासचिव बान की मून है।

अन्य विशिष्ट संस्थाएं

1. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन-

यह संगठन मजदूरों तथा श्रमिकों की रक्षा के लिए नियम बनाता है।

2. खाद्य और कृषि संगठन-

संसार की खाद्य एवं कृषि से संबंधित समस्याओं पर विचार करना तथा सुधार के लिए सहायता तथा सलाह देना इस संगठन का काम है।

3. शैक्षिक वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन-

इसका मुख्य उद्देश्य है संसार में शांति स्थापित करने के लिए लोगों के शैक्षिक वैज्ञानिक और सांस्कृतिक स्तर को ऊंचा करना इसका मुख्यालय पेरिस में है।

4. विश्व स्वास्थ्य संगठन-

इस संस्था का उद्देश्य संसार के लोगों के स्वास्थ्य के लिए काम करना और इसकी सुरक्षा करना है।

5. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष-

इसका मुख्य उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मुद्रा आदि की देखभाल करना है।

6. विश्व बैंक

इसका मुख्य उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों को पुनर्निर्माण और विकास के कार्यों में आर्थिक सहायता देना।

7. अंतरराष्ट्रीय शरणार्थी संगठन

व्यक्तियों की सहायता करना इसका मुख्य उद्देश्य था जिन्हें किसी कारणवश शरणार्थी बनना पड़ा सन 1952 में इसका अस्तित्व समाप्त हो गया और इसके कार्य एवं गतिविधियां 14 दिसंबर 1950 से संयुक्त राष्ट्र संघ शरणार्थी उच्चायुक्त कार्यालय के द्वारा संचालित की जाने लगी।

Categories
money management

Internet se paise kamane ke 8 tarike

hello  friends  aaj  mai  ek  aam  aadmi  ke  sath  ek  student  ke  liye  bhi  post  lekar   aaya  hu.  friends  agar  aap  ek  student  hai.  aur  aap  abhi  part  time  money  earn  karna  chahte  hai. 

To ye post aapke bahut kaam ki hai. isme  aapko money earning ke best tariko  ko  bataye  gaya  hai.  jisse  aap  money  earn  kar  sakte  hai.  aur  apna  khud  ka  kharch  utha  sakte  hai. 

friends me bhi  ek  student  hu.  aur  mai  bhi  in  tariko  se  paise  kamata  hu.  agar  aap  bhi  ye  tarika  apnakar  achhe  se  work  karege  to  aap  bhi  paise  kmane  lagoge.                                                               



friends  aap  isme  part  time  full  time  dono  kar  sakte  hai.  but   aap  ek  student  ho  to  aap  part  time  work  karke  bhi  achhi  earning kar  sakte  ho.  so  friends  chalte  hai.  un  tariko  ke taraf.

How  to  make money  online   in  hindi


1.  Business  card  banakar :-


friends  ye  student  ke  liye  ek  best  tariko  me   se  ek  hai.  kyonki  aajkal   sabhi  ke  yaha  computer  ho  gaye  hai.  aur  aap  to  ek  student  ho  aapke  ghar  me  to  hoga  hi.  

To friends  agar  photoshop  seekh  chuke hai  to  aap  waha  par  business  card   banakar  paise kama  sakte  hai.  friends  business  card  visiting  card  ko  kahte  hai.

Aap  achha  se  achha  stylish  visiting card  banakar  online  usko  sell  karke  money  earning  kar  sakte  ho.  internet  par  bahut sare  website  hai.  jo  aapke  dwara banaye  gaye  visiting  card  ko  buy  karke  achhe  paise  deti  hai.  unme  sabse  achha.  site  hai.  graphicriver  and  fiverr  best  hai.  

2.  Reseller  bankar:- 

  

friends  ye  ek  best  aur  kam  samay  me  aapko  paise dila  sakta  hai.  aap  koi  bhi  product ko facebook  par  sell  karke  money  earning  kar  sakte  hai.  aur  ye  sabse  aasam  tariko  me  se   ek  hai. 

Aur ye  tarika  student  ke  liye  best  bhi  sabit  hoti  hai.  aap  facebook  par  20  se  30  busness  group  me  join  ho  jaye  aur  apne product  chahe  kaisa  bhi  product  ho  waha  sell  kar sakte  hai.  aap  es idea  ko  ek  baar  jarur  try  kare.

3. ebay  se  paise  kamaye:-


friends  aap  apne  kisi  bhi  saman   ya apne  naye  saman  ki  picture  khich  kar  aap  ebay.co  me  share  kare  agar  aapke  koi  bhi  saman  ko  koi  bhi  buy  karta  hai. 

aapko  usse  benifit  milega  aap  dhire  dhire  apne  castually  saman  ki  bhi  picture  lekar  ebay  me  upload  kare  agar  wo  saman jayada  price  me  sell  hoga  to  aapko  aur  bhi  benifit  hoga  aur  jyada  paise  milenge.  

4. Microwork  karke online  paise kamaye:-


friends  aap   microwork  karke  online  achhi  earning  kar  sakte  hai.  
aap  microwork  kaam  karke  achhe  se  tasks  ko  pura  karke  paise kama  sakte  hai. 

 aap  yaha  data  entry,  website  designing,  ka  kaam  kar  sakte  hai. internet  me  bahut  saare  websites  hai.  jo  aapko  ye  kaam  de  sakte   hai.

5.  Sellers  ko  buyers  se  milwana:- 


friends  agar  aap  kabhi  khali  hote  hai.  mera  matlab  kuchh  kam  nahi  hota  to apna  time  ya  to aap  games  khelkar  nikaloge  ya  phir  tv  dekhkar. but  aap  chahte hai.

 khali  time  me  bhi  kaam  kiya  jaye  to  aap ye  kaam  best  tarike  se  kar  sakte  friends  kai  baar  kai  logo  ko  kuchh  buy  karna  hota  hai.  ya  kuchh  sell  karna  hota  hai.  
 Me unke  paas  aur  kaam  hone  ke  karan unko  time  nahi  mil  pata.  to  aap  agar  kharidne  wale  aur  bechane  wale  ko  milane  ka  kaam   to  aap  isse  achha  paisa  kama  sakte  hai.  aur  aapko  sell  karne  wale  ke  taraf  se  paise  milte  hai.

how to make money online in hindi

6. captcha  typing  karke:-


friends  aap  online   captcha   typing  karke  paise   kama  sakte  hai.  internet  par  bahut  se  trusted   website  hai. 

Jo apko  captcha   working  ka  offers  provide  karti  hai.  aap  yaha  par  roj  captcha type  karke  in  website  ko  send  krenge  to aapko  ye  websites  paise  degi.  aap  agar  roj  1000  captcha  type karenge  to  aapko  $1  milega  aap  agar  typing  me  achhe  hai.  to  aap  roj  5000   captcha  solve  karke  roj  250rs.  kama  sakte  hai.   
ye  best  captcha  work  websites  hai.


1. megatypers






7.  domain and website  sell  karke  paise  kamaye:-


friends  aap  chahe  to  ek  achha  sa  domain  kahi  se  kharid  kar  usko  sahi  time  me  agar  sell  karenge  to  aapko  achhi  earning  mil  sakti  hai.  

kisi  achhe se  website  par  jaye  aur  domain  register  kare  phir  usko  kisi  aise  aadmi  ko  sell  kare  jisko  domain  ki  jarurat  ho  to  aap  es  business  se  achhi  earning  kar  sakte  hai. 

Aur  friends  agar  aapke  paas  website design  karne  ki  jankari  hai.  to  aap  ek  achha  sa  website  banaye  aur  usko  achhe  se promote  kare. 

Jab  aapke  site  me  achhi  traffic  aane  lage  to  aap  us  site  ko  kisi  aise  website  me  upload  kare  jo  website  sell  karne  ka  platform  ho  aap  us  website  ko  achhi  kimat  me  sell  kar  sakte  hai.

8.  old  product  sell  karke:-


friends  agar  aapke paas  koi  aisa  product  hai.  jo  achhi  condition  me  hai.  aur  aap  uska  use  jyada  nahi  karte  hai.  to  aap  us  saman  ko  online  achhi  kimat  me  selll  kar  sakte hai.  

Aap  olx  and  quikr  par  us  saman  ki  photo  lekar  daal  de  aur  sath me  uska  chhota  sa  description  daal  de  phir   jaise  hi  koi  aadmi  usko  kharidega  to  aapko  achhi  income  milegi  aap  dusro  ke  saman  ko  bhi  online  sell  karke  money  earn  kar  sakte  hai. 


blog  banakar  paise   kaise  kamaye

friends  maine  ye post  aam  ke  liye  bhi  aur  ek  student  ke  liye   bhi ye  post  publish  kiya  hu.  friends  aap ek  student  hai.  

to  es  post  ko  padhkar  aapke  andar  bhi thoda  ya bhut  jyada  josh  aa gaya  hoga  to  friends  is  josh  ko bahar  nikaliye  aur  aa  jaiye  internet  ki  unlimited  make ki  dunya  me.  

friends  agar aapko  ye  post  achhi lagi  ho  to   share jarur kare  aur  new  post  ki  notification  ke liye  hamare  website  ko subscribe  jarur   kare.  thanks  for  reading  friends.
Categories
History

संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत की भूमिका l India’s role in the United Nations

1. संघ की स्थापना और चार्टर निर्माण में

सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन में भाग लेकर भारत उनका मन संस्थापक देशों में से एक सदस्य बना मानव अधिकार और मौलिक स्वतंत्र गांव को भारतीय प्रतिनिधियों की सिफारिश पर चार्टर में जोड़ा गया।

2. संघ की सदस्य संख्या बढ़ाने में

संघ में अपने विरोधी गुट को प्रवेश देने में कई देश रुकावट डालते थे परंतु भारत ने अपने आक्रमणकारी चीन के परिवेश का समर्थन कर संघ की सदस्य संख्या बढ़ाने में प्रेरक कार्य किया।

3. संघ के विभिन्न अंगों का संचालन में

सन 1954 में भारत की सिम की विजय लक्ष्मी पंडित संयुक्त राष्ट्र महासभा के आठवीं अधिवेशन के अध्यक्ष निर्वाचित हुई

डॉ राधाकृष्णन और मौलाना अब्दुल कलाम आजाद यूनेस्को के प्रधान निर्वाचित हुए राजकुमारी अमृत कौर विश्व स्वास्थ्य संगठन डॉ बी आर सी एन विश्व खाद्य एवं कृषि संगठन बाबू जगजीवन राम अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन डॉ एच जे भाभा अणुशक्ति आयोग के अध्यक्ष डॉ चिंतामणि देशमुख अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के अध्यक्ष डॉ नागेंद्र सिंह अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश जाकर संघ के संचालन में सहयोग कर चुके हैं।

4.संयुक्त राष्ट्र संघ के शांति व सुरक्षा संबंधी कार्य

1. कोरिया समस्या

उत्तर और दक्षिण कोरिया के युद्ध में विश्वयुद्ध की
संभावनाएं बढ़ रही थी संयुक्त राष्ट्र ने वहां शांति स्थापित करने 16 राष्ट्रों की सेना भेजी उस में भारतीय सैनिक भी शामिल थे जिन्होंने युद्ध बंदियों की अदला बदली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

2. हंगरी समस्या

1956 में प्रतिक्रियावादी तत्वों ने हंगरी में विद्रोह कर दिया हंगरी सरकार के अनुरोध पर रूस ने सेना भेजकर विद्रोह को दबा दिया संयुक्त राष्ट्र संघ ने भारत के हंगरी में शांति स्थापना के प्रयासों का समर्थन किया।

3. स्वेज नहर समस्या

26 जुलाई 1956 को मिश्र ने स्वेज नहर का राष्ट्रीयकरण कर दिया स्वेज नहर पर अपना अधिकार भी स्थापित करने के लिए इंग्लैंड फ्रांस और इजरायल ने मिस्र पर आक्रमण कर दिया भारत ने इन आक्रमणकारी देशों की निंदा कर युद्ध बंद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।

4. कांगो समस्या

कांगो के स्वतंत्र होने पर बेल्जियम ने उस पर हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया संयुक्त राष्ट्र संघ के आदेश से भारत ने अपनी सेना की बड़ी टुकड़ी भेजकर कांगो में युद्ध के खतरे को टालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

5. निशस्त्रीकरण हेतु किए गए प्रयास

भारत ने सहयोगी देशों की मदद से सन 1961 में महासभा में आणविक परीक्षणों को बंद करने का प्रस्ताव रखा 1963 में ब्रिटेन अमेरिका और सोवियत रूस के आणविक परीक्षण प्रतिबंध संधि का भारत ने स्वागत किया सन् 1986 में राजीव गांधी ने महासभा में निशस्त्रीकरण की पुल की और सन 1988 से 22 जून तक एक चरणबद्ध कार्यक्रम चलाकर तहत पूर्ण का सुझाव दिया।

6. रंगभेद के विरुद्ध संघर्ष

अफ्रीका और रोड एशिया की गोरी सरकारों द्वारा श्वेतांबर किए जाने वाले अत्याचारों का भारत में प्रबल विरोध किया साथ ही संयुक्त राष्ट्र संघ पर भी भारत ने इस हेतु लगातार दबाव बनाए रखा अल्लाह 22 दिसंबर 1993 में अफ्रीका नेताओं को भी बराबरी का अधिकार मिल गया।

7. उपनिवेशवाद समाप्ति हेतु किए गए प्रयास

भारत में उपनिवेशवाद की समाप्ति और वहां की जनता की स्वतंत्रता के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ में जो प्रस्ताव रखा उसे स्वीकार कर लिया गया बांग्लादेश और नामीबिया को मुक्त कराने भारत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

8. मानव अधिकारों की रक्षा

भारत मानव अधिकारों का सदैव समर्थक रहा 21 दिसंबर 1993 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने मानवाधिकार आयोग का गठन किया भारत ने उच्चायोग के सुझावों को मान्यता दी यह संयुक्त राष्ट्र महासचिव और महासभा के अधीन काम करते हुए नागरिक सामाजिक सांस्कृतिक और अन्य सभी प्रकार के मानव अधिकारों की रक्षा और उन्हें बढ़ावा देने के लिए उत्तरदाई है।

9. आर्थिक और सामाजिक समस्याओं को हल करने में

भारत में संयुक्त राष्ट्र संघ के माध्यम से आर्थिक दृष्टि से पिछड़े देशों पर विशेष बल दिया विकसित देशों से अविकसित देशों के लिए अधिकाधिक आर्थिक सहायता देने का अपील की 24 अक्टूबर 1985 में राजीव गांधी ने महासभा के सदस्य देशों से अपील की कि विश्व के शांति के प्रति स्वयं को समर्पित करते हुए विश्व भुखमरी को दूर करने के लिए संघर्ष करें।

Categories
History

भारत में उपनिवेशवाद सन् 1756 से सन 1900

हमने पढ़ाई की इंग्लिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने सन 1757 में बंगाल के नवाब को प्लासी की लड़ाई में हराकर भारतीय उपमहाद्वीप पर ब्रिटिश साम्राज्य की शुरुआत की थी इसके बाद किस तरह धीरे-धीरे पूरा भारत उनके अधीन हो गया इस पाठ में हम यहां समझने की कोशिश करेंगे कि किस प्रकार औपनिवेशिक शासन ने भारत के समाज को प्रभावित किया।

सन 1757 के बाद भारत का उपनिवेश ई करण कई चरणों से गुजरा प्रत्येक चरण का स्वरूप ब्रिटेन की बदलती जरूरत तथा भारतीयों के प्रतिरोध कौन से निर्धारित हुआ एक और उपनिवेश नीतियों के कारण भारत एक संपन्न देश से गरीब  बन गया।

दूसरी और भारत के लोग अंग्रेजों से संघर्ष करते हुए एक आधुनिक राष्ट्र का निर्माण कर पाए और उसे लोकतंत्र और समानता की ओर ले जा पाए हमने भारतीय राष्ट्रवाद लोकतंत्र और समानता के लिए संघर्ष की कहानी पड़ी यहां हम अपनी विशेष नीतियों और उनके प्रभावों के बारे में नीचे पड़ेंगे।

एकाधिकार व्यापार का दौर

शुरुआती दौर में ब्रिटिश उपनिवेशवाद के भारत में दो लक्ष्य थे पहला लक्ष्य था भारत के साथ व्यापार में एक अधिकारी स्थापित करना ईस्ट इंडिया कंपनी यह सुनिश्चित करना चाहती थी कि वह विदेशी में भारत माल को भेजें ताकि कम से कम दाम में भारतीय किसानों व कारीगरों का सामान खरीद कर अधिक से अधिक दाम में दुनिया भर में बेच सकें।

ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारतीय व्यापार पर हस्तशिल्प के उत्पादन का अधिक एकाधिकार स्थापित करने के लिए राजनीतिक शक्ति का प्रयोग किया पहले से व्यापार में लगे भारतीय व्यापारियों को या तो व्यापार से ही हटा दिया गया या फिर ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए व्यापार करने को विवश किया गया इन भारतीय शिल्पीओं एवं बुनकरों को अपना माल कम कीमत पर ब्रिटिश कंपनी को बेचने के लिए विवश किया गया।

इन सबके कारण भारत का विदेशों से व्यापार तो काफी बढ़ गया लेकिन बुनकर एवं शिल्पी यों को उचित कीमत कीमत नहीं मिली।

दूसरी और लक्ष्य था भारत से प्राप्त राजस्व नियंत्रण कर उसे ब्रिटेन के हित में उपयोग करना ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में तथा संपूर्ण एशिया व अफ्रीका में अपना वर्चस्व बनाए रखने के लिए युद्ध करना पड़ता था इसके लिए अत्यधिक धन की आवश्यकता थी इसे भारत से प्राप्त राजस्व श्रीजी निकालने की कोशिश हुई।

ज्यादा नागेश्वर के लिए ज्यादा भूभाग पर नियंत्रण जरूरी था इसके लिए भारत के विभिन्न भागों को जीतकर ब्रिटिश भारत में मिलाने की कोशिश हुई।

जो इलाके कंपनी के अधीन हुए वहां पर कंपनी ने नई प्रकार की भू राजस्व व्यवस्था लागू की जिसके तहत जमींदार जमीन के मालिक बने और जमीन पर निजी स्वामित्व स्थापित हुआ।

अंग्रेजों की उम्मीद थी कि इससे उन्हें अधिकतम भू राजस्व मिलेगा किस नीति का दूरगामी असर यहां पड़ा कि किसानों की स्थिति लगातार बिगड़ती गई और वे अभूतपूर्व मानव निर्मित आकलन के शिकार होने लगे वह बढ़ते हुए राजस्व को अदा करने के लिए ऋण लेकर साहूकार के चंगुल में फंसते गए।

दूसरा दा और इंग्लैंड में औद्योगिक क्रांति और भारत का उपनिवेशी करण

सन 1750 से सन 1800 में ब्रिटेन में औद्योगिक क्रांति शुरू हो गई थी लेखाधिकारी व्यवस्था उद्योग पतियों के हित के अनुकूल नहीं थी वे नहीं चाहते थे कि भारतीय कपड़े यूरोप में बिके उल्टा वे चाहते थे कि भारत उनके कारखानों में निर्मित कपड़े खरीदे।

उन्होंने दबाव डाला कि भारत पर ईस्ट इंडिया कंपनी का नियंत्रण समाप्त हो धीरे-धीरे ब्रिटेन की संसद ने भारतीय मामलों पर दखल बढ़ाया और ईस्ट इंडिया कंपनी के एकाधिकार को सन 1813 में समाप्त कर दिया सन 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के बाद संसद ने भारत का प्रशासन सीधे अपने हाथों में ले लिया।

भारत की व्यापारिक नीतियों में बहुत सारे बदलाव किए गए ब्रिटेन से आने वाले सामानों का आयात शुल्क को या तो कम कर दिया गया या फिर समाप्त कर दिया गया ताकि भारत में अंग्रेजी का खानों में बना सामान बिक सके ।

लाखों जुलाहे जो कल तक कपड़ा बनाने के काम में लगे हुए थे ग्रज कार हो गए कोई काम-धंधा नहीं मिलने पर वे भी खेती करने लगे इससे कृषि का आबादी का दबाव बढ़ने लगा उतनी ही जमीन पर अधिक लोग निर्भर हो गए इस पूरी प्रक्रिया को भारत का निरूद्योगी करण कहा जाता है इससे हिंदुस्तान गरीब देशों की श्रेणी में आ गया।

भारत के गरीब होने के पीछे एक और कारण था विभिन्न तरीकों से अंग्रेजों द्वारा भारत से इंग्लैंड भेजा जाना भारतीय राजाओं के खजाने की लूट अंग्रेजी सैनिकों व अफसरों के वेतन आदि के रूप में भारतीय धन इंग्लैंड भेजा गया यह भुगतान भारत के किसानों के द्वारा चुकाए गए करोड़ से होता था।

औद्योगिकरण के लिए नील कपास पटसन जैसे कच्चे माल और अनाज चाय और शक्कर जैसी कृषि उपज की अधिक जरूरत थी इन्हीं सस्ते में खरीदकर वे ब्रिटेन भेजना चाहते थे औपनिवेशिक सरकार ने किसानों पर दबाव डाला कि वे इन्हें व्यापारिक फसलों के रूप में उगाए और बेचे क्योंकि किसानों को लगान चुकाना था वे विवश थे व्यापारिक कृषि को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने अनेक सिंचाई परियोजनाओं को अंजाम दिया जिससे खेती के लिए पर्याप्त पानी मिल सके।

साथ साथ उसने देश के प्रमुख कृषि क्षेत्रों को बंदरगाहों से जोड़ने के लिए रेल लाइनें बिछाई भारत में रेलवे के विकास के लिए अधिकांश सामान से खरीदा गया।

इस कारण वहां के लोहा उद्योग को काफी फायदा हुआ इस प्रकार भारतीय कृषि को ब्रिटेन उद्योगों की जरूरत के अनुसार ढाला गया नकदी फसल का उत्पादन बढ़ा और कपड़ों की जगह उनका निर्यात होने लगा।

Categories
Industrialisation

भारत में निरूद्योगी करण और औद्योगीकरण की शुरुआत

भारत में निरूद्योगी करण और औद्योगीकरण की शुरुआत
सन 15 सबसे 1720 जानी ब्रिटेन में औद्योगिकरण से पहले भारत में कपड़ा उद्योग सहित विभिन्न तरह के उद्योग अपने चरम पर थे भारतीय कारीगर उत्तम गुणवत्ता के कपड़े बुनते थे जिसकी विश्वभर में बड़ी मांग थी इसी व्यापार से फायदा उठाने के लिए यूरोप के व्यापारी भारत आए बढ़ती मांग को देखते हुए भारतीय व्यापारियों ने तेजी से बढ़ाया। इसी व्यापार पर अधिक नियंत्रण पाने के लिए ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में अपना राज्य बनाया चलिए पढ़ते ही नीचे इसका हमारे देश के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ा।

 बुनकरों का क्या हुआ

सन 1760 के दशक के बाद ईस्ट इंडिया कंपनी के राज की स्थापना के पश्चात महाराज के कपड़ा निर्यात में गिरावट नहीं आई इसका कारण यह था कि ब्रिटिश कपड़ा उद्योग अभी विकसित नहीं हुआ था और यूरोप में वहीं भारतीय कपड़ों की भारी मांग थी इसलिए कंपनी भी भारत से होने वाले कपड़े के निर्यात को ही और फैलाना चाहती थी।

भारत में मैनचेस्टर का आना

सन 1772 में ईस्ट इंडिया कंपनी के अफसर तुला ने कहा था कि भारतीय कपड़े की मांग कभी कम नहीं हो सकती क्योंकि दुनिया के किसी और देश में इतना अच्छा माल नहीं बनता लेकिन हम लेते हैं कि 19 वीं सदी की शुरुआत में भारत के कपड़े याद में गिरावट आने लगी जो लंबे समय तक जारी रही सन 1811 से 1812 में कुल निर्यात में सूती माल का हिस्सा 33% था सन 18 सो 50 से 18 57 में यह मात्र 3% रह गया ऐसा क्यों हुआ इसके क्या प्रभाव हुए?

जब इंग्लैंड में कपड़ा उद्योग विकसित हुआ तो वहां के उद्योगपति दूसरे देशों से आने वाले आयात को लेकर शिकायत करने लगे उन्होंने सरकार पर दबाव डाला कि आयातित कपड़े पर आयात शुल्क वसूल करें जिससे में बने कपड़े भारी प्रतिस्पर्धा के बिना इंजन में आराम से बच सकें दूसरी तरफ उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी पर दबाव डाला कि वह ब्रिटिश कपड़ों को भारतीय बाजारों में भी भेजें 19वीं सदी की शुरुआत में ब्रिटेन के वस्त्र उत्पादों के निर्यात में अभूतपूर्व वृद्धि हुई।

इस प्रकार भारत में कपड़ा बुनकरों के सामने एक साथ दो समस्याएं थी उनका निर्यात बाजार गिरा था और स्थानीय बाजार सिकुड़ने लगा था स्थानीय बाजार में मैनचेस्टर से आयातित सामानों की भरमार थी।

कम लागत पर मशीनों से बनने वाले आयातित कपास उत्पादक ने सस्ती ठीक की बुनकर उनका मुकाबला नहीं कर सकते थे सन अट्ठारह सौ पचास के दशक तक देश के बुनकर इलाकों में ज्यादातर बदहाली और बेकारी किसी किस्से की भरमार थी।

सन 18 सो साठ के दशक में बुनकरों के सामने एक नई समस्या खड़ी हो गई मैं अच्छा का पास नहीं मिल पा रहा था क्योंकि ब्रिटेन अपने कारखानों के लिए भारत से कपास मंगाने लगा था।

भारत में कारखानों का आना

भारत में कहां-कहां पहला मिल सन 18 54 लगा दो साल बाद उसमें द्वारा शुरू होने लगा 18262 तक वहां ऐसे चार मिले काम कर रहे थे उनमें चरण में 1000 तक लिया और 21 साल के थे उस समय बंगाल में जूट मिलने लगी वहां देश की पहली जूट मिल सन 18 55 में और दूसरा 7 साल बाद 18 साल में चालू हुआ।

उत्तरी भारत में एल्गिन मिल अट्ठारह सौ साठ के दशक में कानपुर में गुलाब के साल भर बाद अहमदाबाद का पहला कपड़ा मिल भी चालू हो गया 18 से 74 में मद्रास में भी पहला कताई और बुनाई मिल खुल गया।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में सन 1894 में सीपी मिल प्रारंभ हुआ विशेषण 1986 बीएमसी कहा जाने लगा।

Categories
Colonialism

वैचारिक औपनिवेशिकरण क्या है

वैचारिक औपनिवेशिकरण
पिछली पोस्ट में हमने पढ़ा की अर्थव्यवस्था पर औपनिवेशिक नीतियों के प्रभाव कैसे थे लेकिन औपनिवेशिक रण इससे और आगे लोगों की सोच पर हावी होने का प्रयास करता है यह कैसे आइए एक एग्जांपल से समझते हैं

जब अंग्रेज भारत में अपना राज्य बनाने लगे तो उनमें से कई लोगों ने भारतीयों की संस्कृति इतिहास आदि को जानने समझने का भरसक प्रयास किया वे भारतीय संस्कृति और धर्म आदि से काफी प्रभावित हुए उन्होंने कंपनी सरकार से आग्रह किया कि पारंपरिक भारतीय ज्ञान और साहित्य के अध्ययन को संरक्षण देना जरूरी है।

उनके कहने पर संस्कृत कॉलेज और मद्रासी खोले गए इस विचार के लोगों को राष्ट्रवादी कहते हैं रानी पूर्ण अर्थात वे लोग जो पूर्वी संस्कृति से प्रेरित थे।

सन 1800 के बाद कंपनी के कई और अधिकारी हुए जिन्होंने यह माना कि आधुनिक यूरोप का जान ही जानने योग्य है और यह अंग्रेजी के माध्यम से ही हो सकता है उनका मानना था कि भारतीय ज्ञान की परंपरा किसी काम की नहीं है और उस पर धन खर्च करना व्यर्थ है इन्हें अंगनावादी अर्थात अंग्रेजी संस्कृति और शिक्षा से पीड़ित लोग कहते हैं।

जब अंग्रेजी सरकार की शिक्षा नीति बनी तब आंग्ल वादी विचार के लोग अधिक प्रभावी रहे इनमें सबसे प्रसिद्ध थे थॉमस मैकाले जिन्होंने सन 1830 में अपनी सिफारिश प्रस्तुत की

मैकाले का कहना था

इस बात को सभी मानते हैं कि भारत और अरब के संपूर्ण देसी साहित्य एक अच्छे यूरोपीय पुस्तकालय की केवल एक सेल्फ के बराबर ही है यूरोपीय काव्य इतिहास विज्ञान और दर्शन की पुस्तकों की तुलना में इन में कुछ भी नहीं है उनका आग्रह था कि भारतीयों की भलाई इसी में है कि उन्हें विज्ञान गणित पाश्चात्य दर्शन आदि की शिक्षा दी जाए ताकि वे अंधविश्वास और बर्बरता से मुक्त हो जाएं।

मैकाले का आग्रह था कि कुछ चुने गए भारतीयों को अंग्रेजी शिक्षा दी जानी चाहिए ताकि वे अंग्रेजी शासन के समर्थक बने और अन्य भारतीयों को भी सिखाए

औपनिवेशिकरण का एक तुलनात्मक अध्ययन

हमने पढ़ा कि लैटिन अमेरिका अफ्रिका इंडोनेशिया चीन भारत आदि अलग-अलग प्रकार से अपनी वशीकरण से प्रभावित हुए एक तरह का उपनिवेश ई करण लैटिन अमेरिका में देखा जा सकता है लैटिन अमेरिका में रहने वाले अधिकांश मूलनिवासी मारे गए और वहां यूरोप के लोग आकर बसे तथा अफ्रीका से लोगों को दाल बना कर जबरदस्ती वहां बसाया गया।

यूरोपीय देश इस तरह बताए गए उन निवेशकों का अपने फायदे के लिए शोषण करना चाहते थे इस का उपनिवेश के लोगों ने विरोध किया दास प्रथा बेगारी और औपनिवेशिक नीतियों के विरोध में स्वतंत्रता आंदोलन सफल रहे।

एशियाई देश जैसे इंडोनेशिया वह भारत में औपनिवेशिक रण लेटिन अमेरिका सिविल न था यहां यूरोप के देशों ने अपना राज्य स्थापित किया और स्थानीय अर्थव्यवस्था को अपने हितों के अनुरूप बदला किंतु इंडोनेशिया और भारत में भी फर्क था इंडोनेशिया जंगल काटकर बागान बनाए गए जिनके मालिक हॉलैंड के लोग थे।

भारत में भी पहाड़ी क्षेत्रों में इस तरह के बागान बने लेकिन बाकी क्षेत्रों में लगान और व्यापारिक खेती के माध्यम से किसानों का शोषण किया गया सबसे महत्वपूर्ण भारत के उद्योगों को पनपने नहीं दिया गया जिससे भारतीय कपड़ा उद्योग का विनाश हुआ।

चीन की कहानी इन सबसे अलग रही वहां शासक तो चीनी ही बने पर चीन के विभिन्न हिस्सों पर यूरोपीय देशों का वर्चस्व था जहां वे शासन की जिम्मेदारी के बिना वहां के लोगों तथा संसाधनों का दोहन करते रहे इन सब देशों में औपनिवेशिक रण के प्रतिरोध की कहानी भिन्न भिन्न है हम खुद लैटिन अमेरिका की भारत और अफ्रीका के प्रतिरोध की तुलना कर सकते हैं।